ज़िंदगी से बढ़ कर

ज़िंदगी में ज़िंदगी से बढ़ कर कुछ नहीं

ज़िंदगी तेरे सिवा और कुछ नहीं

तू ना मिले तो मै से मोहब्बत कर लूं

मगर ये जाम तेरी आँखों के सिवा कुछ नहीं

तुझ बिन जीने की कोशिश भी कैसे करूं

ये साँसे तेरी खुशबु के सिवा कुछ नहीं

मरने की ख्वाइश है तेरे आगोश मे छुप कर

कहीं और जाये जान, तो ये मरने के सिवा कुछ नहीं

(Genuinely Uttam’s)

Alvida

Unki meethi si baat ka hum bura kaise maante?
Itni adaa se unhone alvida kahaa ki hum muskurakar haath hila baithe!!
Shayad unki aadat thi muskuraane ki
Hum bhi hanste hanste unse dil lagaa baithe!
Hum jaante the unki manzil kahin aur hai
Magar jaane kyon ummeed ke diye jalaa baithe!
Jaate jaate kafaa ho gaye hum se
Jaane hum kya khata kar baithe!
Khush rahein woh rahein kahin bhi
Hum bhi fir se khush rehne ki aas lagaa baithe!
(Genuinely Uttam’s)