July 2007

आत्मविश्वास

मैं कहाँ एकांगी हूँ मैं स्वयं ही स्वयं के साथ हूँ ना झुकने दूंगा मैं स्वयं को मैं स्वयं का आत्मविश्वास हूँ आंसू ना गिरने दूंगा नयनों से मैं ही तो हर्ष का स्त्रोत हूँ ना थकने दूंगा ना रुकने दूंगा मैं तो शक्ति का दात हूँ निर्भय हूँ जग से, अपजय से क्यों की Continue reading आत्मविश्वास