आत्मविश्वास

मैं कहाँ एकांगी हूँ
मैं स्वयं ही स्वयं के साथ हूँ
ना झुकने दूंगा मैं स्वयं को
मैं स्वयं का आत्मविश्वास हूँ
आंसू ना गिरने दूंगा नयनों से
मैं ही तो हर्ष का स्त्रोत हूँ
ना थकने दूंगा ना रुकने दूंगा
मैं तो शक्ति का दात हूँ
निर्भय हूँ जग से, अपजय से
क्यों की मैं स्वयं ही स्वयं के साथ हूँ
(Genuinely Uttam’s)

 

Tu Nahi To Na Sahi!!!

Tu nahi to na sahi
Main to hoon, Zindagi bhi hai..

Teri nazaron ke karam na sahi
Khuda to hai, bandagi bhi hai..

Tere honthon ki rangat na ho mere paas,
Phool to hain, khushboo bhi hai..

Na ho chahe teri baahon ki garmi,
Sooraj to hai, roshni bhi hai..

Tere aasre ki kami to hai,
Magar khud sambhalne ki aadat bhi hai..

Main bhi jee sakta hoon tere bina,
Kyon ki.. Tu khush hai, yeh khushi bhi hai!!

(Genuinely Uttam’s)